Monday, December 19, 2011

रूस में लगा भगवतगीता एवं इस्कॉनपर प्रतिबंध !




[PTI An ISKCON follower holds a placard during an agitation in front of Consulate General of the Russian Federation Office in Kolkata on Monday]

मास्को, १७ दिसंबर - रशिया में न्यायालय ने एक आदेश द्वारा भगवतगीता पर प्रतिबंध लगाया है । इस आदेश में ऐसा आरोप लगाया गया है कि हिंदुओं का पवित्र ग्रंथ भगवतगीता अन्य धर्मियों के विषय में द्वेष फ़ैलाता है ।
१. युरोप में हिंदु धर्म की बढती लोकप्रियता एवं इस्कॉन द्वारा जारी भगवान श्रीकृष्ण के अद्वितीय लीलाओं के प्रचार के कारण रशिया के धर्मांध चर्च भयभीत हो गए हैं ।

२. भगवतगीता अन्य धर्मियों के विरोध में द्वेष फैलाती है, ऐसा आरोप लगाकर रशियन शासन द्वारा सितंबर महिने में टॉम्स्क के जनपद न्यायालय में भगवद्गीता के विरोध में अभियोग प्रविष्ट किया गया है। रशियन शाखा के प्रवक्ता युरी प्लेशाकोवने कहा है कि यह अभियोग हास्यास्पद है । उन्होंने यह भी कहा कि भगवतगीता भारतीयोंका पवित्र ग्रंथ है तथा इस ग्रंथके साथ १०० करोड हिंदुओंको आतंकवादी कहना घातक है । 

३. जिला न्यायालय के न्यायाधीश गलिना बुटेंकोने इस प्रकरण में तज्ञोंसे परामर्श मांगा है ।
४. इस विषयमें प्रतिक्रिया व्यक्त करते समय हिंदु धर्म के गहन अभ्यासक बोरीस फालिकोवने कहा है कि इस प्रकरण में प्रस्तुत किए गए साक्ष्य निराधार हैं । फालिकोव ने कहा कि भगवतगीता को त्याज्य ठहराने के विषयमें इस प्रकार अवैधानिक पद्धतिका उपयोग किया, तो कुरान एवं बाइबल ग्रंथोंको तो निश्चितरूपसे आतंकवादी ग्रंथ ठहरा सकते हैं । उन्होंने यह भी कहा कि मूल भगवद्गीताका विश्वभर में आदर किया जाता है । लिओ टॉलस्टॉय एवं अल्बर्ट आईन्स्टाईनने भी भगवतगीता का सम्मान किया है

नोट : गीता पर रूस में लगाए गए प्रतिबंध के विरोध में दो रशियन व्यक्तियों द्वारा आवाज उठाई जा रही है; परंतु हिंदु बहुसंख्यक भारतमें प्रसार माध्यम एवं हिंदुत्ववादी संगठन चुप्पी साधे बैठे हैं । हिंदुओ, इस विषयमें इन संगठनोंके नेताओं से पूछें !

  प्रतिबंध लगाने वाले जरा इसे देख ले -

 क्या प्रतिबंध लगाने इन्हें रोक सकते है ?

No comments:

Post a Comment