Thursday, September 1, 2011

लव जिहाद (केरल में हिंदू युवतियो को मुस्लिम बनाने का षडयंत्र तेज)





केरल में इन दिनों एक मजहबी उन्मादी मुस्लिम गुट , जिसका नाम हैं ‘लव जिहाद ’ , हिंदू युवतियों को अपने ‘प्रेम’ में फसा कर उनसे निकाह करके मुस्लिम बनाने के षडयंत्र में लगा हुआ हैं | पता चला हैं के इस संगठन ने इस तरीके से अब तक सैकडो युवतियों को मतांतरित किया हैं | युवतियों को मतांतरित किया हैं | ‘लव जिहाद ’ में कई कट्टरवादी मुस्लिम गुटों के सदस्य शामिल हैं | पिछले छह माह के दौरान पंचायत के रेजिसट्ररारो से इस तरह के ४००० निकाहो का खुलासा होने पर पुलिस की विशेष शाखा ने जांच आरंभ की हैं | ऐसे सबसे ज्यादा निकाह मुस्लिम बहुल मलप्पुरम जिले में देखने में आए हैं और उसके बाद कोझीकोड जिले में हैं | दुसरे जिले में भी इस तरह के निकाहो की खबर हैं |
यह गुट युवा मुस्लिम लडको का इस्तेमाल करता हैं | उन्हें हिंदू लड़कियों को फांसने की तालीम दी जाती हैं जिसका खास मकसद उन्हें इस्लाम में मतांतरित करना होता हैं | निर्देशो के अनुसार , मुस्लिम युवक डो सप्ताह की समय सीमा के अंदर हिंदू लड़कियों पर अपना जाल फैलाते हैं और अगले छह महीने के दौरान उनका ‘ब्रेन वाश’ करके उनका मतांतरण और निकाह करते हैं | जो युवतिय इससे इनकार करती हैं | उन्हें इस जाल से कभी बहार नहीं निकालने दिया जाता | समझा जाता हैं की उन्हें खास हिदायते दी गई हैं की प्रत्येक निकाह से कम से कम चार बच्चे पैदा किये जाए | अगर ‘लक्ष्य’ डो सम्प्ताह के अंदर झांसे में नहीं फसता, तो उन्हें हिदायत हैं की उसे छोडकर दूसरी लड़की पर निशाना साधे |
इस काम में काफी पैसा खर्च होता हैं जो विदेश्स्थ संगठनो से आ रहा हैं | पता चला हैं के ये गुट केरल में पिछले एक साल से सक्रिय हैं| इस मतांतरण अभियान में जुटे मुस्लिम रंगरूटो को चमक-दमक के सामान. जैसे मोबाइल फोन , मोटर साइकिले और दूसरे फेशन परास्त लिबास मुफ्त दिए जाते हैं | काफी समय से केरल मध्य पूर्व के लिए सस्ते मजदूरो का गढ़ रहा हैं | केरल से वहा जाने वाले ज्यादातर एक खास तरह के अनपढ़ मुस्लिम होते हैं जिनके पास आय का कोई बेहतर स्रोत नहीं होता | इनमे से कुछ उन्मादी हो जाते हैं और एक बिलकुल ही नया अभियान लेकर अपने गृह प्रदेश में वापस लौटते हैं | उसके बाद वे जिन हरकतों में लग जाते हैं उन्हें समझना मुश्किल नहीं हैं | हर जिले में इस अभियान की निगरानी के लिए एक क्षेत्रीय प्रमुख तैयार हैं | कालेज में दाखिले शुरू होने से पहले वे लड़कियों की सूचि बना लेते हैं और मजहब के आधार पर उन्हें अलग कर लेते हैं | इसके बाद अपने कारिन्दो के जरिये वे जाल बिछाते हैं और हिंदू लड़कियों को ‘प्रेम जाल’ में फसाकर मुस्लिम बनाकर निकाह करते हैं | ऐसा करने पर कोई सफल होता हैं तो उस मुस्लिम लड़के को बतौर इनाम एक लाख रूपय दिए जाते हैं जो केरल के लिहाज से काफी अच्छी-खासी रकम हैं |
खतरा इस बात का भी हैं के केरल की मुस्लिम आबादी का तेजी से उन्मादिकरण इसे स्थानीय आतंकवादियों की ऐशगाह बना देगा | अगर इस पर काबू नहीं किया जाता तो केरल में इतनी ज्यादा परेशानी खड़ी हो जाएगी की जिसे संभालना मुश्किल होगा | पंचायत स्टार पर स्थानीय प्रशासन को इस तरह के अहिंसक और दूरगामी नतीजो वाले ‘लोव जिहाद ’ का सामना करने के लिए आवश्यक उपाय उपलब्ध करवाने होंगे | उम्मीद हैं के की ये खतरनाक पहलू सी बी आई ,सी आई डी और केन्द्रीय गृहमंत्री चिदम्बरम की नजरो में आएगा |
साभार: प्रदीप कुमार
१२ अप्रैल २००९ के पांचजन्य के प्रष्ठ ९
ऐसा नहीं की भारत के विभाजन के बाद मुस्लमान ऐसा कर नहीं रहे थे पर हाल के वर्षों में आयी घटनाओं की वजह से हिन्दुओ का ध्यान गया हैं | केरल में स्थिति विषम हैं पर पश्चिम बंगाल, असोम व पूर्वोतर राज्य बिहार और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जिलो में लव जिहाद भी बहुत बढ़ोतरी हो चुकी हैं | एवं समस्त भारत में ये अभियान अपने निर्धारिक लक्ष्य को लेकर चल रहा हैं | धार्मिक जागरूकता ही आपकी बहन बेटियों को बच्चा सकता हैं |

2 comments:

  1. mujhe aapke sare articles up to the fact lage, par is blog par readers ki sankhya kam lagi, aap kuch aisa upaay kijiye jisse is blog ka adhikadhik prachar-prasar ho..vande matram..!!

    ReplyDelete
  2. पहले तो ब्लॉग पर समय देने के लिए बहुत बहुत धन्यबद ! आप से अनुरोध है की आप भी इस ब्लॉग को शेयर करें और जानकारी औरों तक प्रेषित करें !

    ReplyDelete